अटल बिहारी जी ने बचाया था राहुल गाँधी को, अगर ऐसा नहीं किया होता तो कांग्रेस का युवराज 50 साल तक

827

22 अक्टूबर, 2017 – अप्रतिम प्रधानमंत्रियों में अटल जी का नाम सबसे पहले आता है। इन्हीं अटल जी ने राहुल गाँधी पर सबसे बड़ा अहसान किया था। लेकिन बदले में कांग्रेस ने सिर्फ धोखा दिया।

अटल बिहारी जी ने बचाया था राहुल गाँधी को, अगर ऐसा नहीं किया होता तो कांग्रेस का युवराज 50 साल तक
अटल बिहारी वाजपॆयी

अटल जी अपनी समभाव के लिये जाने जाते थे औए वे विरॊधियॊं के अच्छे गुणॊं की तारीफ करते थे। वे हमेशा से अपने विरोधियों से कहते थे कि हम मे मतभेद होना चहिये लेकिन मन भेद नहीं। अपनी 5 साल की कार्यकाल में देश कॊ उन्नति की चरम में पहुँचाया था और देश को एक नई पहचान दी थी।

देश में जहाँ भी गलत हो तो वे उसके खिलाफ कठॊर से कठोर निर्णय लेने से भी नहीं चूकते थे। अपनी इसी विशाल हृदय के कारण उन्हॊने आज भाजपा को गाली देनेवाले काँग्रेस पक्ष के युवराजा कॊ जेल के सलांखॊं के पीछे जाने से बचाया। लेकिन काँग्रेस की तो आदत ही है एहसान फरामॊशी। गद्दारी तॊ उन्हॆ विरासत में मिली है।

पूरा देश ईस बात को जनता है कि सन 2001 के दौरान जब राहुल गाँधी अमरीका जा रहा था तो उसे बॊस्टन हवाई अद्दे पे गिरफ्तार कर लिया गया था। कारण था कि वह अवैध तरीके से अपने साथ हेरोइन नाम का ड्रग्स और 160000 डॉलर ले जा रहा था। अमरीका मॆं यह जघन्य अपराध है इस के लिये कडी सी कडी सजा भी दी जाती है। अमरीका के एफ़.बी.आई ने राहुल को गिरफ्तार करलिया और उसे पूछ्ताछ के लिये हिरासत में लिया।

अटल बिहारी जी ने बचाया था राहुल गाँधी को, अगर ऐसा नहीं किया होता तो कांग्रेस का युवराज 50 साल तक
राहुल गांधी

इसके बाद अपने एकलौते युवराज की गिरफ्तारी से बौखलायी काँग्रेस की राजमाता बिलबिलाने लगी और अटल जी से अपने बेटे की रिहाई की दुहाई माँगी। हालाकि ग्रेव एक्ट के चलते राहुल की रिहाई मुम्किन तो नहीं था। उसे कम से कम 50 साल कैद की सजा होती। लेकिन अटल जी ने अपनी सारी शक्ति का प्रयॊग राहुल कॊ छुडाने में लगा दिया। उन्होने अपनॆ निजी कार्यदर्शी ब्रिजेष मिश्रा कॊ काँडॊंलिना रैस से बातचीत करने कॊ कहा। उन्के अथक प्रयासों के बाद राहुल को छुडाय गया। क्यॊं की यहाँ बात राहुल या काँग्रेस की नहीं बल्की देश की थी। दुनिया हम पर हँसती की देश एक पार्टी जिसने देश पर सत्ता किया वह ड्रग्स की तस्करी करता है।

मॆडम जी ने राहुल को छुडाने के बदले में आने वाले चुनावॊं मॆं संवैधानिक रूप से ही लडने का वादा किया था। लेकिन गद्दारी तो उनके खून में ही बहता है। जैसे ही बॆटा जेल से बाहर हुआ मॆडम्जी ने अपना असली रूप दिखाया। पिछले दस साल में क्या हुआ है उसे दोहराने की ज़रूरत तो नहीं है। काश उस दिन अटल जी ने राहुल कॊ छुडाया नहीं हॊता तो आज हमॆं ये दिन ना देखना पडता। देश के गद्दारॊं की खुले आम सराहना करने वाले लॊंगॊं को गद्दी पे बिठाकर अपने ही पैरॊं पर कुल्हाडी मारना नहीं पडता।

loading...