उद्धव ठाकरे के CM की शपथ लेने से पहले ही शिवसेना में टूट शुरू ! हिन्दुओं के साथ धोखे का मिला ये नतीजा

38

नई दिल्ली : महाराष्ट्र की राजनीति में आए दिन नए-नए मोड़ आ रहे हैं. महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए शिव सेना का एनसीपी और कांग्रेस से हाथ मिलाना अब कुछ शिव सैनिकों को पसंद नहीं आ रहा है और इस पर पहली प्रतिक्रिया भी आ चुकी है। दरअसल रमेश सोलंकी ने मंगलवार को शिव सेना की युवा सेना इकाई से इस्तीफा दे दिया है।

उद्धव ठाकरे के CM की शपथ लेने से पहले ही शिवसेना में टूट शुरू ! हिन्दुओं के साथ धोखे का मिला ये नती

महाराष्ट्र में बने नए गठबंधन के प्रति उन्होंने नाराजगी जताते हुए एक के बाद कई ट्वीट किए। अपने पहले ट्वीट में इस्तीफा देते हुए कहा, ‘मैं शिव सेना और युवा सेना के सम्मानित पद से इस्तीफा दे रहा हूं। मैं @OfficeofUT और आदी भाई @AUThackeray का शुक्रिया अदा करता हूं कि उन्होंने मुझे मुंबई, महाराष्ट्र और हिंदुस्तान के लोगों की सेवा करने का मौका दिया।’

रमेश सोलंकी ने एक और ट्वीट में कहा, ‘पिछले कुछ दिनों से लोग मुझसे मेरे पक्ष के बारे में पूछ रहे हैं। मैं स्पष्ट कहना चाहता हूं, जो श्रीराम का नहीं है (कांग्रेस) वो मेरे किसी का काम का नहीं है।’ उन्होंने कहा कि 1992 में 12 साल की उम्र में वह बाला साहेब से प्रभावित हो गए और 1998 में आधिकारिक रूप से शिव सेना से जुड़ गए। इस दौरान हिंदुत्व विचारधारा का अनुसरण करते हुए उन्होंने कई पदों पर काम किया।

इसके बाद सोलंकी ने आगे कहा, ‘इस दौरान उन्होंने किसी पद या टिकट की मांग नहीं की। महाराष्ट्र में सरकार बनने और शिव सेना के मुख्यमंत्री चुने जाने को लेकर बहुत बधाई। मगर मेरी आत्मा मुझे कांग्रेस के साथ काम करने की अनुमति नहीं देती है। मैं आधे-अधूरे मन से काम नहीं कर सकता। यह मेरे पद, मेरी पार्टी और साथियों के लिए सही नहीं होगा।’ उन्होंने कहा, ‘इसलिए बहुत ही भारी मन से मैंने जिंदगी का सबसे मुश्किल फैसला लिया है।’

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा, ‘कहावत है कि जब जहाज डूबता है तो सबसे पहले चूहे कूदकर भागते हैं। मगर मैं अपनी पार्टी को जब छोड़ रहा हूं जब वह शीर्ष पर है।’

loading...