हत्याहरण सरोवर, श्रीराम से जुड़ा एक ऐसा तीर्थ जहां स्नान करने से धुल जाते हैं सारे पाप, जानिए इस सरोवर की मान्यता

551
3 जुलाई, 2017 – नैमिषारण्य क्षेत्र अंतर्गत वर्तमान हत्याहरण तीर्थ ही भास्कर (सूर्य) क्षेत्र के रूप में जाना जाता है। यहाँ का भाद्रमास में विशेषकर महत्व है यहाँ इस मास में प्रत्येक रविवार को बड़ा ही वृहद मेला लगता है।
हत्याहरण सरोवर, श्रीराम से जुड़ा एक ऐसा तीर्थ जहां स्नान से धुल जाते हैं सारे पाप, जानिए इस सरोवर की मान्यता
हत्याहरण सरोवर
यह तीर्थ हत्याकोटी विनाशक कहा गया है। आज भी बहुत से लोग अपने जाने अनजाने किये गए कृत्यों का शमन करने के लिए यहाँ स्नान करने आते है।
शिवपुराण में इस तीर्थ की मर्यादा का वर्णन करते हुए कहा गया है “हत्याहरण तीर्थे तू शिवलिंगमघापहम्” अघापा नाम के रूप में शिव आज भी विद्यमान है।

 

इस सरोवर की मान्यता..

स्‍थानीय मान्‍यताओं के अनुसार, जब भगवान राम ने रावण का वध कर दिया था, तो उन्‍हें ब्रह्महत्‍या का दोष लग गया था। उस पाप को मिटाने के लिए प्रभु श्रीराम ने इस सरोवर में स्‍नान किया था।

तब से इसे..

अगले PAGE पर जारी है..

Loading...