हनुमान जी की पूजा में भूलकर भी न करें ये गलती! अन्यथा पूरी नहीं होगी मनोकामना…

5

Do not forget also in the worship of Hanuman ji this mistake! Otherwise the desire will not be fulfilled (5 दिसंबर, 2019) : हिन्दू धर्म में बहुत से देवी-देवताओं की पूजा की जाती है. जिनमें से एक ‘हनुमान जी’ हैं जो थोड़ी से ही पूजा में जल्दी से प्रसन्न हो जाते हैं. इस बात को हम भलीभांति जानते हैं कि बजरंगबली को संकटमोचक के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि विपत्ति में हनुमान का जप करने से बड़ी से बड़ी मुश्किलें दूर भाग जाती हैं. शास्त्रों और पुराणों के अनुसार हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए मंगलवार और शनिवार का दिन विशेष बताया गया है.हनुमान जी के भक्त कई बार जाने-अनजाने ऐसी भूल कर बैठते हैं जिससे उन्हें पूजा का पूरा फल नहीं मिल पाता है. आइए जानते हैं उन गलतियों के बारे में…

हनुमान जी की पूजा में भूलकर भी न करें ये गलती! अन्यथा पूरी नहीं होगी मनोकामना...
हनुमान जी

मंगलवार के दिन बहुत भक्त हनुमान जी का व्रत रखते हैं. जो भी हनुमान भक्त मंगलवार को व्रत रखते हैं उनको भूलकर भी ‘नमक’ नहीं खाना चाहिए.

शास्त्रों की माने तो खंडित और टूटी हुई हनुमान जी मूर्ति की पूजा करना भी वर्जित है. ध्यान रहे भूलकर भी न तो घर पर ऐसी मूर्ति की पूजा करें और न ही रखें.

हनुमान जी की पूजा में कभी प्रसाद के रूप में चरणामृत का प्रयोग नहीं करना चाहिए.

हनुमान जी की पूजा में भूलकर भी न करें ये गलती! अन्यथा पूरी नहीं होगी मनोकामना...

जो भक्त मंगलवार और शनिवार के दिन व्रत रखते है उनको मंदिर में जाकर हनुमान जी के दर्शन अवश्य करने चाहिए. बिना दर्शन के व्रत का पारण करने से पूजा का फल प्राप्त नहीं होता.

यदि किसी दिन आपका मन ठीक नहीं है तो उस दिन हनुमान जी पूजा नहीं करनी चाहिए. शांत मन और श्रद्धा पूर्वक से ही हनुमानजी की पूजा करने ही पूरा फल प्राप्त होता है.

यह भी पढ़े – गुरु प्रदोष व्रत : 3 जनवरी रखा जाएगा यह व्रत! जाने महत्व और विधि…

मंगलवार और शनिवार के दिन गलती से भी ‘मांस’ और ‘शराब’ आदि का सेवन नहीं करना चाहिए.

हनुमान जी की पूजा में भूलकर भी न करें ये गलती! अन्यथा पूरी नहीं होगी मनोकामना...

मंगलवार और शनिवार के दिन भूलकर भी काले या सफेद कपड़े पहनकर बजरंगबली की पूजा नहीं करनी चाहिए. हनुमान जी को लाल और केसरिया रंग प्रिय है इसलिए इनकी पूजा लाल, केसरिया या पीले कपड़े पहनकर पूजा करें.

loading...