दीपावली मे इन सरल उपायों को करने से घर में होगा मां का वास और प्राप्त होगी अखंड लक्ष्मी

351

18 अक्टूबर, 2017 – इस दीपावली को लक्ष्मी गणेश को समर्पित की जाने वाली पूजन सामग्री के अतिरिक्त कुछ विशेष चीजें हैं, जिनके होने से भक्तों को मिलेगी माँ लक्ष्मी की विशेष कृपा. आइए जानते है क्या है ये सरल उपाय-

दीपावली मे इन सरल उपायों को करने से घर में होगा मां का वास और प्राप्त होगी अखंड लक्ष्मी

  1. खीर

इस दीपावली के शुभ अवसर पर माँ लक्ष्मी के पूजन में फल व मिठाई के साथ ही घर पर बनी गाय के दूध की खीर अवश्य रखें.  पुराणों के अनुसार गो दुग्ध से बनी खीर माँ लक्ष्मी को अति प्रिय है. इसीलिए खीर का भोग अवश्य लगाएं.

2. वंदनवार

आम, पीपल और अशोक के नए कोमल पत्तों की माला से बने वंदनवार को मुख्य द्वार पर बांधना चाहिए.  इससे माँ लक्ष्मी इन पत्तियों की महक से आकर्षित होकर घर में प्रवेश करती हैं.

3. गन्ना

समुद्र मंथन में माँ लक्ष्मी के साथ  ऐरावत हाथी भी प्रकट हुए थे. माँ लक्ष्मी इसी ऐरावत हाथी के ऊपर सवार होने से गज लक्ष्मी कहलाती है, और ऐरावत हाथी की प्रिय भोजन ईख यानी गन्ना है. पूजा के उपरात यदि प्रसाद में गन्ने को सम्मिलित किया जाता है, तो माँ लक्ष्मी की विशेष कृपा होती है.

4. पीली कौड़ी

श्री लक्ष्मी पूजन में पीली कौड़ियां धन की प्रतीक रूप हैं, पूजा के बाद इन कौड़ियों को तिजोरी में रखने से माँ लक्ष्मी सदा निवास करती हैं.

दीपावली मे इन सरल उपायों को करने से घर में होगा मां का वास और प्राप्त होगी अखंड लक्ष्मी

5. पान

पान पाचन तंत्र को शुद्ध करने की औषधि रूप हैं. है, पूजा के समय पान रखने पर घर की शुद्धि होती है, ये मंगल कार्यों में प्रसन्नता का वातावरण निर्मित करता हैं.

6. गेहूं की ज्वार

यह प्रयोग सिद्ध है कि दीपावली पर गेहूं की ज्वार पूजा स्थान पर रखने से धन में वृद्धि होती है, सभी देवी-देवताओं के साथ ही माता अन्नपूर्णा की कृपा भी प्राप्त होती है. एक मिट्टी के पात्र में गेहूं की ज्वार को बोया जा सकता है.

7. स्वस्तिक

गृह के मुख्य द्वार अथवा पूजा कक्ष की किसी भी दिवार पर  स्वास्तिक चिह्न केसर, हल्दी या सिंदूर से बनाया जा सकता है. इसके प्रभाव से श्रीगणेश के साथ ही माँ लक्ष्मी चारों दिशाओं से शुभ समाचार लाती हैं.

8. तिलक

घर के सभी सदस्य तिलक अवश्य लगाएं, बिना तिलक के पूजा अधूरी रहती है. तिलक से आज्ञा चक्र जागृत होता है, जिससे परा शक्तियों से भी सम्बन्ध हो जाता है, माँ लक्ष्मी की कृपा से दैवीय धन – परा विद्या की प्राप्ति होती है. तिलक से मन एकाग्र होता है, जिससे ध्यान करने की शक्ति भी प्राप्त होती है.

दीपावली मे इन सरल उपायों को करने से घर में होगा मां का वास और प्राप्त होगी अखंड लक्ष्मी

9. चावल यानी अक्षत

चावल को अक्षत अर्थात् कभी खंडित न होने वाला माना जाता है. खंडित ना होने का अर्थ यह है कि इसके अन्दर जो शुभ ऊर्जा है वह इसके एक-एक खंड में होती है, चावल का एक दाने के हजार टुकड़े भी हो तो भी इसके शुभता में कोई कमी नहीं होती. इस वजह से चावल को पूर्णता का प्रतीक माना जाता है.  तिलक करते समय  चावल का प्रयोग करने के पीछे भाव यही हैं कि आज्ञा चक्र द्वारा संचित ज्ञान और परा शक्तियों का कभी क्षय ना हो. आज्ञा चक्र पर ध्यान लगाने वाले साधक पर माँ लक्ष्मी विशेष अनुकम्पा करती हैं.

10. गुड़

माँ लक्ष्मी-पूजन के बाद गुड़ का दान करने से श्री वृद्धि होती है.  जितने अधिक लोगों तक हम यह प्रसाद पहुंचाते हैं, हमें उतना अधिक पुण्य लाभ प्राप्त होता है.

11. लच्छा – धागा

लच्छा-धागा  संगठन की शक्ति का प्रतीक है, जिसे पूजा के समय रक्षा सूत्र के रूप में कलाई पर बांधने से विशेष ऊर्जा अनुभव होती हैं, साथ ही स्वास्थ्य संबंधी लाभ भी मिलता है.

12. रंगोली

माँ लक्ष्मी जी के पूजा स्थ या घर के मुख्य प्रवेश द्वार या घर के आंगन में  अलग-अलग आकार के सुन्दर आकृतियों से रंगोली सजी होती है. मुख्य रूप से कमल, स्वास्तिक, कलश, फूलपत्ती आदि आकार की रंगोली बनाई जाती है. माँ लक्ष्मी जब घर में प्रवेश करती है तो रंगोली के स्वागत से वे विशेष प्रसन्न होती है. रंगोली के प्रभाव से घर की सकारात्मकता और पवित्रता बढ़ती है.

आचार्य मदन,
ज्योतिष व वास्तुविद
9911438929
loading...