गुरु प्रदोष व्रत : 3 जनवरी रखा जाएगा यह व्रत! जाने महत्व और विधि…

25

Guru Pradosh fast : this fast will be kept on 3 January! Know the importance (2 दिसंबर, 2018) : पंचांग के अनुसार हर महीने के दोनों पक्षों की त्रयोदशी तिथि को ‘प्रदोष व्रत’ रखा जाता है. प्रदोष व्रत में ‘भगवान शिव’ की पूजा-अर्चना की जाती है. भगवान शिव की कृपा से अनेकों मनोकामनाएं पूरी होती है.

गुरु प्रदोष व्रत : 3 जनवरी रखा जाएगा यह व्रत! जाने महत्व और विधि...

यह व्रत अलग-अलग दिन पड़ता है और इस व्रत की महिमा भी अलग-अलग होती है. गुरुवार 3 जनवरी को पड़ने वाले प्रदोष को ‘गुरु प्रदोष’ के नाम से जाना जाता है. यह पौष मास का गुरु प्रदोष है, अतः इसका महत्व और भी अधिक होता है.

जाने गुरु प्रदोष व्रत की महिमा

– इस व्रत को रखने से भक्तों की मनचाही इच्छा पूरी होती है.

– इसके अलावा संतान से जुड़ी मनोकामना की पूर्ति इस दिन की जा सकती है.

– गुरु प्रदोष व्रत रखने से शत्रु और विरोधी शांत होते हैं, मुकदमों और विवादों में सफलता मिलती है.

गुरु प्रदोष व्रत : 3 जनवरी रखा जाएगा यह व्रत! जाने महत्व और विधि...

गुरु प्रदोष के व्रत और पूजा की विधि

– गुरु प्रदोष व्रत के दिन सुबह के समय स्नान करके श्वेत वस्त्र धारण करें.

– इसके बाद ‘भगवान शिव जी’ को जल और बेल पत्र अर्पित करें .

– साथ ही सफ़ेद चीज से भोग लगायें. 

– पूजा के दौरान शिव मंत्र ‘ॐ नमः शिवाय’ का जाप करें .

– रात के समय शिव जी के सामने घी का दीपक जलाकर शिव मंत्र जाप करें.

– रात्रि के समय आठ दिशाओं में आठ दीपक जलाएँ.

– गुरु प्रदोष व्रत के दिन जलाहार और फलाहार ग्रहण करना चाहिए.

– ध्यान रहे कि नमक और अनाज का सेवन न करें.

यह भी पढ़े : मुश्किलों को दूर करने के लिए करें इन सांपों की पूजा!

गुरु प्रदोष व्रत : 3 जनवरी रखा जाएगा यह व्रत! जाने महत्व और विधि...

शत्रु और विरोधियों को शांत करने के लिए करें ये उपाय

– इस दिन ‘भगवान शिव’ की पूजा-अर्चना करें.

– भगवान शिव को पीले फूल चढ़ाएं.

– इस दौरान ‘ॐ नमो भगवते रुद्राय’ मंत्र का 11 माला जाप करें.

– शत्रु और विरोधियों के शांत हो जाने की प्रार्थना करें.

loading...