मोदी राज में इसरो ने इस वर्ष हासिल की ये बड़ी कामयाबियां! जिसकी पूरे विश्व में हो रही है प्रसंशा…

27

In year 2018, ISRO achieved these big successes in the year of Modi’s reign (नई दिल्ली) : सूत्रों की माने तो ‘भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन’ (इसरो) ने साल 2018 में बड़े-बड़े कीर्तिमान स्थापित किए हैं. इसरो की इस सफल कामयाबी के बाद भारत का सिर विश्वस्तर पर गर्व से और भी ऊंचा हुआ है. सूत्रों की माने तो यह वर्ष इसरो की तमाम कामयाबियों के लिए जाना जाएगा. इसरो ने इस वर्ष 12 बड़ी कामयाबियां हासिल कीं.

मोदी राज में इसरो ने इस वर्ष हासिल की ये बड़ी कामयाबियां! जिसकी पूरे विश्व में हो रही है प्रसंशा...

आपको याद दिला दें कि इसी साल 12 जनवरी को ‘कार्टोसैट -2’ का सफल परिक्षण किया गया. इसके बाद आईएनएस-1सी, 12 जनवरी को ही माइक्रोसैट, 29 मार्च को जीसैट-6ए मिशन, 10 अप्रैल को आई.आर.एन.एस.एस.-1आई, 14 नवंबर को GSAT-29, 29 नवंबर को HysIS, 05 दिसम्बर को GSAT-11 Mission, 19 दिसम्बर को GSAT-7A’ बीते 1 सफलतापूर्वक लांच किया गया.

यह भी पढ़े : इसरो ने किया अब तक के सबसे शक्तिशाली रॉकेट का सफल परिक्षण!

ध्यान देने वाली बात यह है कि यह इसरो का सबसे भारी उपग्रह है. साथ ही आपको बता देने है कि इसको भारत ने अपने ही रॉकेट ‘जीएसएलवी मार्क-3 डी टू’ के माध्यम से भेजा. यह इसरो और देश के लिए बहुत बड़ी कामयाबी है.

मोदी राज में इसरो ने इस वर्ष हासिल की ये बड़ी कामयाबियां! जिसकी पूरे विश्व में हो रही है प्रसंशा...
जीसैट-11

सूत्रों की माने तो भविष्य में यह रॉकेट ‘चंद्रयान-2’ और मैन मिशन के लिए कार्य करेगा. इससे भारत को भारी उपग्रह भेजने में आत्मनिर्भरता मिली है. 2022 से पहले भारत मिशन ‘गगनयान’ के तहत किसी भारतीय को अंतरिक्ष में भेजना चाहता है. इसरो ने इस वर्ष संचार, भू-प्रक्षेपण और नौवहन के क्षेत्र में कई बड़ी और साहसिक कामयाबियां हासिल की हैं.

loading...