बिना मैच खेले ही मैन ऑफ द मैच बने थे जॉन्टी, जीत लिया था सबका दिल

271

क्या कभी किसी प्लेयर को टीम में नहीं होने के बावजूद ‘मैन ऑफ द मैच’ का अवॉर्ड मिल सकता है? ऐसा होना मुश्किल है, लेकिन ऐसा हुआ है 1993 में, जब साउथ अफ्रीकी क्रिकेटर जॉन्टी रोड्स को वेस्ट इंडीज के खिलाफ मैच में टीम में नहीं होने के बावजूद ये अवॉर्ड मिला था।

बिना मैच खेले ही मैन ऑफ द मैच बने थे जॉन्टी, जीत लिया था सबका दिल

हम आपको बात दें कि साउथ अफीका के स्टार क्रिकेटर रहे ‘जॉन्टी रोड्स’ आज अपना 48वां बर्थडे सेलिब्रेट कर रहे हैं। 1993-94 में वेस्ट इंडीज-साउथ अफ्रीका के बीच मैच मुंबई के ‘ब्रेबॉर्न स्टेडियम’ में हो रहा था। हीरो कप के इस मैच में जोन्टी रोड्स अफ्रीकी टीम की प्लेइंग इलेवन में शामिल नहीं थे।

साउथ अफ्रीका ने पहले बैटिंग करते हुए 40 ओवर में 180 रन बनाए। वेस्ट इंडीज के दिग्गजों के कारण अफ्रीकी टीम की हार तय लग रही थी, लेकिन रोड्स ने मैच का पासा पलट दिया था।

‘डेरेल कुलीनन’ के चोटिल होने के कारण तब रोड्स फील्डिंग करने मैदान पर उतरे थे। आते ही उन्होंने अपनी करिश्माई फील्डिंग से एक के बाद एक दिग्ग्ज वेस्ट इंडियन क्रिकेटर्स को पवेलिन में भेज दिया था।

उस मैच में 5 शानदार कैच लेने के कारण अफ्रीकी टीम 41 रन से मैच जीत गई थी और रोड्स मैन ऑफ द मैच बने थे। इससे पहले एक फर्स्ट क्लास क्रिकेट मैच में भी 7 कैच लेकर रोड्स मैन ऑफ द मैच बने थे।

जबकि वो प्लेइंग इलेवन में शामिल नहीं थे। हम आपको बता दे की जॉन्टी रोड्स का नाम क्रिकेट जगत में बड़े ही सम्मान के साथ लिया जाता है।

 

loading...