20 चौके और 7 छक्के लगाने वाली हरमनप्रीत कौर कैसे बनी ‘सुपरस्टार’

285

पंजाब के मोगा की हरमनप्रीत कौर ‘महिला वर्ल्ड कप’ में अपनी शानदार पारी के बदौलत क्रिकेट के सेमीफाइनल में 6 बार की विश्व चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को 36 रन से हराकर फाइनल में प्रवेश कर लिया है, इसके साथ ही उन्होंने अपने फैंस और परिवार वालों का दिल जीत लिया।

 20 चौके और 7 छक्के लगाने वाली हरमनप्रीत कौर कैसे बनी 'सुपरस्टार'

मिडिल क्लास फैमिली से ताल्लुक रखने वाली हरमनप्रीत के पिता एक वकील के यहां मुंशी हैं और मां हाउस वाइफ हैं। मैदान में गंभीरता से खेलनेे वाली हरमनप्रीत असल लाइफ में बेहद स्टाइलिस्ट और बिंदास रहती है।

28 साल की हरमन का जन्म 8 मार्च 1989 को मोगा में हुआ था। पिता हरमिंदर सिंह ने बताया की हरमन को बचपन से ही क्रिकेट खेलने का शोक था। पिता ने कहा कि वह मेरे साथ ग्राउंड में जाती थी और वहां अकेली लड़की होती थी, जो लड़कों के साथ खेलती थी।

दसवीं की पढ़ाई के बाद हरमन मोगा के ज्ञान सागर स्कूल में पढऩे के लिए गई, जहां इसे सोढ़ी ने क्रिकेट की कोचिंग दी और यह पहली बार पंजाब की टीम में चुनी गई। उसके बाद हरमन जालंधर के एचएमवी कॉलेज में पढऩे चली गई और वहां भी इसने क्रिकेट को अपना लक्ष्य बना लिया।

उसके इस मुकाम में सबसे बड़ा योगदान उनके कोच कुलदीप सिंह सोढ़ी का है। हरमनप्रीत, टीम इंडिया के स्टार खिलाड़ी ‘विराट कोहली’ और रहाणे से मिल चुकी है और सोशल साइड फेसबुक पर एक्टिव रहती है और उनका रोल मॉडल क्रिकेटर ‘अजिंक्य रहाणे’ है।

क्रिकेट लाइफ की बात करें तो हरमन ने 2009 आईसीसी विश्व कप में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ डेब्यू किया था। हरमन अब तक 73 वन-डे और 68 टी -20 मैच खेल चुकी हैं।

loading...