हैदराबाद दोहरे विस्फोट में इंडियन मुजाहिदीन के 5 आतंकी दोषी करार

185

हैदराबाद, 13 दिसंबर – हैदराबाद के दिलसुखनगर को साल 2013 में दोहरे बम विस्फोट से दहलाने के मामले में एक विशेष अदालत ने मंगलवार को एक पाकिस्तानी नागरिक सहित पांच आरोपियों को दोषी करार दिया। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की एक विशेष अदालत ने इंडियन मुजाहिदीन के पांचों आतंकवादियों को सजा सुनाने के लिए 19 दिसंबर की तारीख मुकर्रर की है।

हैदराबाद दोहरे विस्फोट में इंडियन मुजाहिदीन के 5 आतंकी दोषी करार
हैदराबाद दोहरे विस्फोट में इंडियन मुजाहिदीन के 5 आतंकी दोषी करार

विस्फोट मामले में दोषी पाए गए पांचों अभियुक्तों में यासीन भटकल उर्फ मोहम्मद अहमद सिद्दीबप्पा जरार, असदुल्लाह अख्तर उर्फ हादी, तहसीन अख्तर उर्फ मोनू, पाकिस्तानी नागरिक जिया उर रहमान उर्फ वकास तथा एजाज शेख शामिल हैं।

मामले में छह आरोपियों में से एजेंसी पांच को ही गिरफ्तार कर पाई है। कर्नाटक के निवासी रियाज भटकल उर्फ शाह रियाज अहमद मोहम्मद इस्माइल शाहबंडारी अभी तक फरार है, जिसपर विस्फोट की साजिश रचने का आरोप है।

दोषी करार दिए गए आरोपियों में जिया उर रहमान उर्फ वकास पाकिस्तान के पंजाब प्रांत का निवासी है।

एनआईए ने एक बयान में कहा, “यह पहला मामला है, जिसमें इंडियन मुजाहिदीन के किसी आतंकवादी को दोषी करार दिया गया है।”

दोषी पांचों आतंकवादियों के खिलाफ राष्ट्र के विरुद्ध युद्ध छेड़ने, आपराधिक षड्यंत्र तथा हत्या का मामला दर्ज किया गया था।

हैदराबाद के दिलसुखनगर इलाके में 21 फरवरी, 2013 को दोहरा विस्फोट हुआ था, जिसमें 19 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 130 लोग घायल हो गए थे।

मामले की जांच करने वाली एनआईए ने कहा कि विस्फोट की साजिश इंडियन मुजाहिदीन के आतंकवादियों ने रची थी।

मामले की सुनवाई पिछले एक साल से शहर के बाहरी इलाके में स्थित चेरलापल्ली केंद्रीय कारा की विशेष अदालत में चल रही थी, जहां पांचों आरोपी वर्तमान में कैद हैं।

एनआईए ने मामले में 158 गवाहों को पेश किया, कुल 201 सबूत पेश किए तथा 500 दस्तावेजों को पेश किया।

विस्फोट के छह महीने बाद यासीन भटकल तथा असदुल्लाह अख्तर को नेपाल की सीमा के निकट बिहार के एक इलाके से गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद तीन अन्य आरोपियों को गिरफ्तार किया गया और एजेंसी ने पांचों आरोपियों के खिलाफ दो आरोप पत्र दाखिल किए।

–आईएएनएस

loading...