दिल्ली को हिरोशिमा में बदलने की साजिश थी पाकिस्तान की ………..

197

परमाणु तकनीक की तस्करी और चोरी के बल पर पाकिस्तान के लिए एटम बम (जिसे इस्लामिक बम भी करार दिया जाता है) के निर्माता पाकिस्तानी वैज्ञानिक डाक्टर अब्दुल कादिर खां ने जो रहस्योद्घाटन शनिवार को इस्लामाबाद में देश के परमाणु ताकत बनने के मौके पर आयोजित यौम-ए-तकबीर रैली में किया कि 1984 में हम कहूटा से दिल्ली को पांच मिनट के भीतर टारगेट करने जा रहे थे पर ऐन समय में पाकिस्तान के सैन्य शासक तानाशाह जियाउल हक ने इजाजत नहीं दी, कहीं से गलत नहीं है |

hiroshima-delhi

कादिर ने यह भी कहा कि उसी साल हम न्यूक्लीयर टेस्ट करना चाहते थे मगर जिया साहब ने यह कहते हुए रोक दिया कि टेस्ट करने से अमेरिका सहित सभी देश हमारी आर्थिक मदद रोक देंगे।

मुझे नहीं पता कि भारत का परराष्ट्र मंत्रालय कैसे रिएक्ट करता है और क्या उसके पास गोपनीय फाइल है इस प्रकरण की? मगर यह जानता हूं कि 1984 में हमारे विदेश विभाग के लांबा और शशांक जैसे अफसर पाक स्थित भारतीय उच्चायोग में तैनात थे वे पुष्टि कर सकते हैं कि कादिर का यह रहस्योदघाटन कोई उड़नझाई नहीं, इसमें सत्यता है।

उस समय पाकिस्तान इस कदर भारत और रॉ से डरा हुआ था कि तीन दिनों तक उस देश में अफरातफरी मची हुई थी और देश आतंकित था कि किसी भी क्षण भारत के जगुआर विमान कुहेटा के परमाणविक केंद्र को बमवर्षा से नष्ट कर देंगे। देश में ब्लैक आउट जैसे हालात बने हुए थे।

यह बात दावे से इसलिए कह सकता हूं कि 1984 में मैं स्वयं पाकिस्तान में मौजूद था। अवसर था भारत-पाक क्रिकेट सिरीज का. पहला टेस्ट लाहौर में खेला जाना था। पूर्व में मैं दो बार 1978 और 1982 की सिरीज के दौरान भी इस देश में मौजूद था। लेकिन इस तीसरी यात्रा में हम सभी को पाकिस्तान एकदम बदला सा नजर आया।

पहले हालत यह होती थी कि पाकिस्तानी धरती पर कदम रखते ही वहां के शहाफी यानी पत्रकार आ धमकते थे। बड़बोले क्रिकेटर सरफराज नवाज तो भारतीय शिविर के हमदम हुआ करते थे, मगर दो दिन बीत गए कोई होटल में नजर नहीं आया। रात्रि में होटल की लाबी में साथी पत्रकार राजनबाला (अब स्वर्गीय ) ने सिर्फ सिगरेट सुलगायी थी कि सुरक्षाकर्मियों ने राइफल तान दी। गोया राजन कोई भारतीय जासूस हो। हर कोई चकित था इस बदले नजरिए से।

तीसरे दिन कुछ पाकिस्तानी साथी और खिलाड़ी छुप कर आए जब रात्रि में हमारे उच्चायोग ने एक काकटेल पार्टी रखी। हम चौंक उठे उनसे यह जानकर कि पाकिस्तान को जब अमेरिका से खबर मिली कि भारतीय जगुआर अपने बेस से गायब हैं, हो सकता है कि पाकिस्तान के कुहेटा पर हमला हो। सभी को लगा कि बस अब भारत दबोच लेगा। तीन दिन बाद पाकिस्तान ने कहीं जाकर राहत की सांस ली जब अमेरिका ने स्पष्ट किया कि खतरे जैसी कोई बात नहीं है और भारतीय जगुआर असल में अनियमित अभ्यास के लिए चले गए थे।

दरअसल इन तीन दिनों के दौरान ही कादिर साहब ने योजना बनायी होगी दिल्ली को हिरोशिमा में तब्दील करने की जिसे सरकारी मंजूरी नहीं मिली, लेकिन तब तक उभय देश के राजनयिक संबंध निचली सतह पर आ चुके थे हम सब पाकिसानी इंटेलिजेंस की चौबीसों घंटे निगरानी में थे।

दौरे के बीच ही श्रीमती इंदिरा गांधी की उन्हीं के अंगरक्षकों ने हत्या कर दी थी। तब पंजाब में पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद चरम पर था और कहा तो यहां तक जाता है कि वह हत्या भी शातिर जियाउल हक की साजिश का ही एक हिस्सा थी।

तब कुछ नहीं हुआ पर आज हालात इतने बदतर हो चुके हैं कि कादिर जैसे बिकाऊ से जिहादी आतंकियों ने यदि डर्टी बम प्राप्त कर लिए हों और उसका इस्तेमाल भारत के खिलाफ हो तो कोई बड़ी बात नहीं, इसलिए भारतीय सुरक्षा एजेंसियों को जरूरत से ज्यादा सतर्कता बरतने की जरूरत है।

पद्मपति शर्मा
(लेखक वरिष्ठ खेल पत्रकार और स्तम्भकार हैं)

–आईएएनएस

loading...