आपने खून और बारूद से हमारा मुल्क को: ‘ख्वाजा आसिफ'(पाकिस्तानी विदेश मंत्री)

234

दिल्ली: अमेरिका और पाकिस्तान के बीच नोकझोक का दौर जारी है। डोनाल्ड ट्रम्प की फटकार और पाकिस्तान की मिलिट्री को मिलने वाली मदद रोके जाने के फैसले के बाद बयान अब और भी ज्यादा कड़वे होते जा रहे हैं। अमेरिका के सख्त रवैये से बौखलाए पाकिस्तान के फॉरेन मिनिस्टर ‘ख्वाजा आसिफ’ की तरफ से अमेरिका के खिलाफ लगातार ट्वीट किए जा रहे हैं।

पाकिस्तान के फॉरेन मिनिस्टर ‘ख्वाजा मोहम्मद आसिफ’ Image Source

इसमें चौकाने वाली बात ये है कि ये सभी ट्वीट उर्दू में किए जा रहे हैं। आसिफ ने गुरुवार रात एक ट्वीट करते हुए कहा की- अमेरिका ने हमारे देश को खून और बारूद से रंग दिया है। वो भारत की भाषा में बात कर रहा है

आसिफ ने एक ट्वीट में लिखा है कि पाकिस्तान ने अमेरिका के हितों का ध्यान रखने के लिए अपनी कुर्बानियां दीं। इससे पहले उन्होंने गुआंतानामो वे जेल का जिक्र भी किया था। उस समय आसिफ का कहना था कि अमेरिका ने पाकिस्तान को वो दर्जा नहीं दिया जो एक दोस्त या सहयोगी को दिया जाता है।

पाकिस्तान को वॉच लिस्ट में डाला

पाकिस्तान के अखबार ‘द डॉन’ के अनुसार, अमेरिका ने रिलीजियस फ्रीडम को लेकर पाकिस्तान को निगरानी सूची यानी वॉच लिस्ट में डाल रखा है। इसकी जानकारी गुरुवार रात स्टेट डिपार्टमेंट ने दी है। स्टेट डिपार्टमेंट ने एक बयान जारी किया था, इसमें कहा गया है कि पाकिस्तान ने मजहबी मामलों को उठाने के लिए कई लोगों को जेल में डाल दिया है। उनके अधिकारों की हिफाजत को लेकर वहां की सरकार जरूरी कदम उठाने में नाकाम रही है।

बयानबाजी का यह सिलसिला रुकने का नाम ही नही ले रहा है, आपको बता दे की इसकी पहल 1 जनवरी को डोनाल्ड ट्रम्प के ट्वीट से हुई थी. ट्रम्प ने ट्वीट करते हुए कहा था कि, “अमेरिका ने बेवकूफों की तरह पाकिस्तान को 15 साल के दौरान 33 बिलियन डॉलर (करीब 2.14 लाख करोड़ रुपए) से ज्यादा की मदद की। पाक ने अमेरिका को बदले में केवल झूठ और धोखे के अलावा और कुछ नही दिया। उन्होंने हमारे लीडर्स को बेवकूफ समझा। उन्होंने उन आतंकवादियों को पनाह दी, जिन्हें हम अफगानिस्तान में तलाश कर रहे थे। ये अब और नहीं।”

https://platform.twitter.com/widgets.js

तो वही इस मामले को लेकर आसिफ ने ट्वीट करते हुए कहा कि, हम जल्द दुनिया को सच बताएंगे। सच्चाई और सपनों का फर्क लोगों को पता चलना चाहिए। साथ ही आसिफ ने एक और ट्वीट में कहा- हम आपके (अमेरिका) साथ खड़े रहे। आपके दुश्मनों को अपना दुश्मन समझा। हमने ग्वातोंनामो वे को भर दिया। गौरतलब है कि, ग्वातोंनामो वे को अमेरिकी प्रेसिडेंट जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने 2002 में शुरू किया था।

आखिर क्यों बौखलाया है पाकिस्तान?

दरअसल, अमेरिका ने इसी हफ्ते पाकिस्तान को दी जाने वाली 255 मिलियन डॉलर (इंडियन करंसी के हिसाब से करीब 1626 करोड़ रुपए) की मिलिट्री एड (सैन्य मदद) रोक दी है। यह कार्रवाई प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प के पाकिस्तान पर लगाए गए आरोपों के एक दिन बाद (2 जनवरी) की गई।

दोनों देशों के बीच चल रही बयानबाजी के बीच पहली दफा पाकिस्तान आर्मी का कोई रिएक्शन आया है। इंटर- सर्विस पब्लिक रिलेशंस (ISPR) के डीजी मेजर जनरल आसिफ गफूर ने छोटा लेकिन सख्त बयान देते हुए कहा कि, अगर अमेरिका पाकिस्तान के खिलाफ कोई भी कार्रवाई करता है, तो अवाम की उम्मीदों के मुताबिक ही उसे जवाब दिया जाएगा। आपको बता दें कि ISPR पाक आर्मी की मीडिया विंग है और गफूर इसके चीफ हैं।

 

Loading...