अंतरिक्ष में भारत ने इस विध्वंसक हथियार के सफल परीक्षण के बाद पूरी दुनिया में रचा ये इतिहास! जिससे पाक-चीन में फैली सनसनी…

164

After the successful testing of this destructive weapon in space in India this history of the whole world (नई दिल्ली) : 27 मार्च को भारत ने ‘भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन’ (इसरो) और ‘रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन’ (डीआरडीओ) के संयुक्त प्रयास के द्वारा विकसित की गई अंतरिक्ष में मार करने वाली ‘एंटी सैटेलाइट मिसाइल’ का सफलतापूर्वक परिक्षण किया है. जिसके बाद भारत के दुश्मन देशों में खलबली मच गई है. भारत अपने इस परिक्षण के बाद विश्व का चौथा ऐसा देश बन गया है, जिसे अंतरिक्ष में मार करने वाले मिसाइल की तकनीकी हासिल है.

अंतरिक्ष में भारत ने इस विध्वंसक हथियार के सफल परिक्षण के बाद पूरी दुनिया में रचा ये इतिहास! जिससे पाक-चीन में फैली सनसनी...

सूत्रों की माने तो परिक्षण के दौरान भारतीय मिसाइल ने तीन मिनट के भीतर ही लो अर्थ ऑर्बिट में एक सैटेलाइट को तबाह कर दिया. आपको बता दें कि भारत के पहले अंतरिक्ष में मार करने की शक्ति केवल अमेरिका, रूस और चीन के पास है. ‘एंटी सैटेलाइट’ (ए सैट) के द्वारा भारत अपने अंतरिक्ष कार्यक्रम को सुरक्षित रख सकेगा. 

एंटी सैटेलाइट वेपन है क्या?

“एंटी सैटेलाइट वेपन” एक हथियार है जो किसी भी देश के सामरिक सैन्य उद्देश्यों के लिए उपग्रहों को निष्क्रिय करने या मिटाने के लिए विकसित करते हैं. सूत्रों की माने तो इतिहास से लेकर अब तक किसी भी युद्ध में इस प्रकार के हथियारों का इस्तेमाल नहीं किया जाता. परंतु कई देश अंतरिक्ष में अपनी क्षमताओं का प्रदर्शन और अपने अंतरिक्ष कार्यक्रम को निर्बाध गति से जारी रखने के लिए इस तरह की मिसाइल सिस्टम को आवश्यक समझते हैं.

यह भी पढ़े : भारत ने इन शक्तिशाली रॉकेटों का सफलतापूर्वक किया परिक्षण!

अंतरिक्ष में भारत ने इस विध्वंसक हथियार के सफल परिक्षण के बाद पूरी दुनिया में रचा ये इतिहास! जिससे पाक-चीन में फैली सनसनी...

सूत्रों की माने तो इस सफल परीक्षण के बाद भारत चौथा देश बनकर सामने आया है कि जिनको इस क्षमता की प्राप्ति थी. भारत से पहले अभी तक दुनिया के तीन देश संयुक्त राज्य अमेरिका, रूस और चीन थे. सफल परीक्षण के बाद भारत भी इस क्लब में शामिल हो गया है. 

loading...