छात्रों को सेना में अधिकारी पद पर तैनात करने के लिए आरएसएस ने लिया ये धमाकेदार फैसला! जिसके बाद छात्रों में खुशी की लहर…

220

The RSS took this blatant decision to make the students an officer in the army (नई दिल्ली) : “राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ” (आरएसएस) ने देश के युवा छात्रों को लेकर एक बड़ा फैसला लिया है. जिसके बाद युवाओं में ख़ुशी का माहौल है. सूत्रों की मने तो अगले साल 2020 से ‘आरएसएस सेना स्कूल’ खोलने की तैयारी कर रहा है. इन स्कूलों में ‘भारतीय सशस्त्र बलों’ में अधिकारी बनने के लिए बच्चों को शिक्षा दी जाएगी.

छात्रों को सेना में अधिकारी पद पर तैनात करने के लिए आरएसएस ने लिया ये धमाकेदार फैसला! जिसके बाद छात्रों में खुशी की लहर...
मोहन भागवत

ध्यान देने वाली बात यह है कि इन स्कूलों को आरएसएस की शिक्षा शाखा ‘विद्या भारती’ द्वारा चलाया जाएगा. रिपोर्ट के अनुसार स्कूल का नाम ‘रज्जू भैया सैनिक विद्या मंदिर’ होगा. यह नाम आरएसएस के पूर्व सरसंघचालक ‘राजेंद्र सिंह उर्फ रज्जू भैया’ के नाम पर रखा गया है.

यह भी पढ़े : आरएसएस की मुस्लिम ब्रदरहुड से तुलना के बयान पर राहुल गांधी पर संघ के कसा तंज! 

सूत्रों की माने तो रज्जू भैया सैनिक विद्या मंदिर की पहली शाखा उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले के शिकारपुर में खोला जाएगा. इस जगह और वर्ष1922 में रज्जू भैया का जन्म हुआ था.

छात्रों को सेना में अधिकारी पद पर तैनात करने के लिए आरएसएस ने लिया ये धमाकेदार फैसला! जिसके बाद छात्रों में खुशी की लहर...

फ़िलहाल लड़कों के लिए रहने के विद्यालय का निर्माण कार्य चल रहा है. इस स्कूल में ‘केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड’ (सीबीएसई) को अपनाया जाएगा. इसमें छठी कक्षा से लेकर बारहवीं कक्षा तक के छात्र को पढ़ाया जाएगा. उम्मीद की जा रही है कि अप्रैल 2020 से कक्षाएं शुरू हो जाएंगी.

अधिकारियों के जानकारी देते हुए कहा कि अगर यह योजना सफल रही तो बहुत जल्द ही इसी तरह के की स्कूल खोले जा सकते हैं. इसके अलावा उन्होंने कहा कि इस विद्यालय को लेकर विद्या भारती ने विवरणिका (प्रॉस्पेक्टस) तैयार कर लिया है.

छात्रों को सेना में अधिकारी पद पर तैनात करने के लिए आरएसएस ने लिया ये धमाकेदार फैसला! जिसके बाद छात्रों में खुशी की लहर...

उम्मीद है कि अगस्त-सितंबर से नामांकन के लिए आवेदन भी मंगाए जा सकते हैं. आपको मालूम हो कि आरएसएस की शिक्षा शाखा विद्या भारती पूरे देश में 20 हजार से ज्यादा स्कूलों को चलाती है.

loading...